व्यापार

वित्त वर्ष 2023-24 में ऊर्जा व्यापार 110 अरब यूनिट के सर्वकालिक उच्च स्तर पर:आईईएक्स

इंडोसोल सोलर का मॉड्यूल परियोजना के पहले चरण को 2025 तक पूरा करने का लक्ष्य

वित्त वर्ष 2023-24 में ऊर्जा व्यापार 110 अरब यूनिट के सर्वकालिक उच्च स्तर पर:आईईएक्स

वरिष्ठ पदों पर औसत 20 प्रतिशत वेतन वृद्धि का अनुमान : रिपोर्ट

नई दिल्ली
 इंडोसोल सोलर का लक्ष्य आंध्र प्रदेश में अपनी एकीकृत सौर मॉड्यूल परियोजना के पहले चरण को 2025 तक पूरा करना है।

इंडोसोल सोलर की प्रमुख कंपनी एसएसईएल समूह के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) शरत चंद्रा ने कहा कि पहले चरण के तहत, इंडोसोल सोलर आंध्र में रामायपट्टनम बंदरगाह के पास नेल्लोर में आगामी संयंत्र में पांच गीगावाट (जीडब्ल्यू) मॉड्यूल, पांच गीगावॉट वेफर्स, पांच गीगावॉट इंगोट और पांच गीगावॉट ग्लास क्षमता स्थापित करने के लिए 15,000 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है।

चंद्रा ने पहले चरण की समयसीमा पर कहा कि यह 2025 तक पूरा हो जाएगा। यह परियोजना सौर क्षेत्र के वास्ते भारत सरकार की उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना का हिस्सा है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने पहले ही 31 मार्च से मॉड्यूल का उत्पादन शुरू कर दिया है। हम इसे चरण ‘1ए’ कहते हैं, जो पहले चरण का हिस्सा है। शुरुआत में हमने 1,300 करोड़ रुपये का निवेश करके 500 मेगावाट मॉड्यूल का निर्माण शुरू किया।’’ चंद्रा ने कहा कि पूरी परियोजना के 2028 तक पूरी होने की उम्मीद है। इसका लक्ष्य रोजगार के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष 32,000 अवसर उत्पन्न करना है।

वित्त वर्ष 2023-24 में ऊर्जा व्यापार 110 अरब यूनिट के सर्वकालिक उच्च स्तर पर:आईईएक्स

नई दिल्ली
 ऊर्जा व्यापार मंच आईईएक्स ने वित्त वर्ष 2023-24 में सालाना आधार पर करीब 14 प्रतिशत वृद्धि के साथ अभी तक का सर्वाधिक 110 अरब यूनिट (बीयू) का कारोबार किया। कारोबार पहली बार किसी वित्त वर्ष में 100 अरब यूनिट के पार पहुंचा।

बयान के अनुसार, आईईएक्स (इंडियन एनर्जी एक्सचेंज) ने वित्त वर्ष 2023-24 में 110 अरब यूनिट का कुल व्यापार किया जो सालाना आधार पर 13.8 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। आईईएक्स के अनुसार, खंड-वार बात करें तो वित्त वर्ष 2023-24 में 75.39 लाख आरईसी (नवीकरणीय ऊर्जा प्रमाणपत्र) का कारोबार किया गया, जो सालाना आधार पर 26 प्रतिशत अधिक है। सरकार ने कई उपाय किए जिससे देश में आपूर्ति परिदृश्य बेहतर हुआ है।

वरिष्ठ पदों पर औसत 20 प्रतिशत वेतन वृद्धि का अनुमान : रिपोर्ट

नई दिल्ली
 इस साल वरिष्ठ पदों पर वेतन वृद्धि औसतन 20 प्रतिशत तक पहुंचने की उम्मीद है।

माइकल पेज इंडिया सैलरी गाइड 2024 के अनुसार, पारंपरिक उद्योगों में नियुक्तियां फिर से बढ़ रही हैं जो विशेष रूप से विनिर्माण तथा परिचालन भूमिकाओं की निरंतर उच्च मांग से स्पष्ट है। इसके अतिरिक्त, विभिन्न क्षेत्रों में डेटा एनालिटिक्स, जेनरेटिव एआई और मशीन लर्निंग में कुशल पेशेवरों की आवश्यकता में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

वार्षिक मार्गदर्शन रिपोर्ट में बीएफएसआई, इंजीनियरिंग तथा विनिर्माण, वित्त व लेखा, स्वास्थ्य देखभाल तथा जीवन विज्ञान, मानव संसाधन, विधि, अनुपालन, खरीद व आपूर्ति श्रृंखला, संपत्ति व निर्माण, बिक्री तथा विपणन और प्रौद्योगिकी के प्रमुख क्षेत्रों को शामिल किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत की छह प्रतिशत जीडीपी वृद्धि वैश्विक चुनौतियों के बीच भी भारत को इस क्षेत्र में विशिष्ट स्थान पर रखती है।

पेजग्रुप के प्रबंध निदेशक अंकित अग्रवाल ने कहा, ‘‘भारत की अर्थव्यवस्था के इस तरह के लचीलेपन तथा आशावाद को प्रदर्शित करने और वैश्विक महामारी के पहले के अपने प्रदर्शन को पार करने के बाद क्षमताओं का दोहन करने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। इस प्रकार प्रतिभा को फलने-फूलने देना और नवप्रवर्तन को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण बना हुआ है।’’

क्षेत्रवार विश्लेषण के अनुसार आईटी व प्रौद्योगिकी में, कनिष्ठ कर्मचारियों के लिए बढ़ोतरी की सीमा 35-45 प्रतिशत, मध्य स्तर के अधिकारियों के लिए 30-40 प्रतिशत और वरिष्ठ प्रबंधन के लिए 20-30 प्रतिशत रखी गई है।

संपत्ति व विनिर्माण क्षेत्र में कनिष्ठों की 20-40 प्रतिशत, मध्यम स्तर के अधिकारियों की 25-45 प्रतिशत और वरिष्ठों की 20-40 प्रतिशत वेतन वृद्धि का अनुमान है।

पेजग्रुप के प्रबंध निदेशक अंशुल लोढ़ा ने कहा, ‘‘जैसे-जैसे हम 2024 में आगे बढ़ रहे हैं, भारत में रोजगार की गाथा सिर्फ वेतन तक सीमित नहीं है। लचीलापन, कामकाज का तरीका और पेशेवर वृद्धि के अवसर नौकरी बदलने में महत्वपूर्ण हो रहे हैं, जो एक परिपक्व तथा समग्र रोजगार परिवेश को दर्शाते हैं।’’

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button