भोपालमध्य प्रदेश

पालपुर कूनो में होगी चीता परियोजना की बैठक, प्रदेश के 33 रेलवे स्टेशनों की शक्ल बदलेगी

भोपाल
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव सोमवार 26 फरवरी की दोपहर श्योपुर जिले में पालपुर कूनो में चीता मित्रों को साइकिल वितरित करेंगे। यहीं चीता परियोजना से संबंधित बैठक भी हो रही है, जिसमें केंद्रीय मंत्री श्री भूपेंद्र यादव हिस्सा लेंगे।

प्रदेश के 33 रेलवे स्टेशनों की शक्ल बदलेगी
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 26 फरवरी को अनेक रेल परियोजनाओं का वर्चुअल लोकार्पण एवं शिलान्यास कर रहे हैं। देश के 544 रेलवे स्टेशन पुनर्विकास के लिए चुने गए हैं। इसमें मध्यप्रदेश के 33 रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास भी शामिल है। इस अवसर पर सीहोर में आयोजित हो रहे कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव शामिल होंगे।

मध्यप्रदेश में रेल अधोसंरचना के विकास के अंतर्गत वर्तमान वर्ष में 15 हजार 143 करोड़ रूपए की राशि मंजूर की गई है। प्रदेश में 77 हजार 800 करोड़ से अधिक की 32 परियोजनाएं क्रियान्वित हो रही हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी मध्यप्रदेश के 33 स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए शिलान्यास के साथ ही 133 रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) एवं अंडरपास का शिलान्यास एवं उद्घाटन करेंगे। प्रदेश के जिन 33 रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास के लिए शिलान्यास किया जाएगा। जबलपुर और भोपाल रेल मंडल के पाँच-पाँच स्टेशन शामिल हैं। पुनर्विकास के लिए चयनित स्टेशनों में सीहोर, जबलपुर, बीना, अशोकनगर, खिरकिया, साँची, शाजापुर, ब्यौहारी, बरगवाँ, नरसिंहपुर, पिपरिया, इन्दौर, उज्जैन, मंदसौर, मक्सी, नागदा, नीमच, शुजालपुर, खाचरोद, बालाघाट, छिंदवाड़ा, खण्डवा, मंडला फोर्ट, नैनपुर, सिवनी, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, बिजुरी, मुरैना, हरपालपुर, दतिया और भिंड स्टेशन शामिल हैं। आरओबी में जबलपुर रेल मंडल के दो और भोपाल रेल मंडल के चार आरओबी शामिल हैं। अंडरपास के अंतर्गत जबलपुर में एक एवं भोपाल मंडल में दो स्थानों पर कार्य होंगे। उल्लेखनीय है कि मानवयुक्त समपार फाटकों को खत्म करने के लिए आरओबी/अंडरपास बनाया जाता है।

सीहोर में कार्यक्रम की तैयारियों को अंतिम रूप
इस कार्यक्रम के आयोजन की सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए कलेक्टर सीहोर श्री प्रवीण सिंह ने सीहोर के रेलवे परिसर स्थित कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। कार्यक्रम की तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया है। कार्यक्रम स्थल पर कलेक्टर ने मंच व्यवस्था, पंडाल व्यवस्था, बैठक व्यवस्था, आगमन-निर्गम, पार्किंग, पेयजल, व्यवस्था आदि के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कार्यक्रम स्थल में किये जाने शिलान्यास तथा विभागों द्वारा लगाए जाने वाले स्टाल के लिये निर्धारित स्थल का निरीक्षण किया तथा सभी व्यवस्थाएं समय से पहले सुनिश्चित करने के लिए कहा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button