भोपालमध्य प्रदेश

मतदान केंद्रों का कलेक्टर्स खुद करें भौतिक सत्यापन, 2 कि.मी. से अधिक दूरी पर न हो कोई मतदान केंद्र

भारत निर्वाचन आयोग के प्रतिनिधि-मंडल द्वारा मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा
निर्वाचन-2023 की तैयारियों को लेकर की जा रही समीक्षा बैठक
दूसरे दिन की समीक्षा बैठक में 30 जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक हुए शामिल

भोपाल

भारत निर्वाचन आयोग के प्रतिनिधि-मंडल द्वारा मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा निर्वाचन-2023 की तैयारियों को लेकर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षकों के साथ कुशाभाऊ ठाकरे अंतर्राष्ट्रीय कन्‍वेंशन सेंटर भोपाल में समीक्षा बैठक दूसरे दिन भी जारी रही। भारत निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त धर्मेंद्र शर्मा सहित अन्य अधिकारियों ने विस्तार से चर्चा की। तीन दिन तक चलने वाली बैठक के दूसरे दिन 6 संभागों के 30 जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी और पुलिस अधीक्षकों ने प्रजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी।

इन बिंदुओं पर की चर्चा

समीक्षा बैठक के दौरान भारत निर्वाचन आयोग के प्रतिनिधि-मंडल ने कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को मतदान केंद्र का स्वयं भौतिक सत्यापन करने, 2 कि.मी. से अधिक दूरी पर कोई मतदान केंद्र न होने के निर्देश दिए। इसके साथ ही 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले नए मतदाताओं का नाम जोड़ने, वल्नरेबिलिटी मैपिंग, जनजातीय बाहुल्य वाले क्षेत्रों में मतदाताओं का नाम जोड़ने, जेंडर रेशियो, ईपी रेशियो, मतदान केंद्रों की सुविधाओं, क्रिटिकल पोलिंग स्टेशन, दोहरी प्रवृष्टि वाले मतदाता, एक मतदान केंद्र पर 1500 से अधिक मतदाता न होने, फोटोग्राफिकल सिमिलर एंट्री, शैडो एरिया, दिव्यांग मतदाता और थर्ड जेंडर मतदाता, मृत मतदाताओं के नाम हटाने, वोटर प्रतिशत बढ़ाने स्वीप गतिविधियाँ, मतदाता सूची में संशोधन कराने, ईवीएम, व्हीव्हीपीएटी की फर्स्ट लेवल चेकिंग, द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 की गतिविधियाँ, पोस्टल बैलेट पेपर, सर्विस वोटर सहित निर्वाचन से जुड़े अन्य बिंदुओं पर चर्चा की।

बैठक में पुलिस अधीक्षकों को बॉर्डर वाले जिलों पर सख्त निगरानी रखने, चेक-पोस्ट बनाने, अवैध शराब सहित मादक पदार्थों पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही वर्ष 2018 के विधानसभा निर्वाचन और लोकसभा निर्वाचन-2019 के दौरान दर्ज हुए प्रकरणों के निराकरण पर पुलिस अधीक्षकों के साथ चर्चा की गई।

बैठक में ग्वालियर, चंबल, सागर, शहडोल, जबलपुर और रीवा संभाग अंतर्गत आने वाले जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक शामिल हुए। वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त भारत निर्वाचन आयोग नीतेश व्यास, उप निर्वाचन आयुक्त भारत निर्वाचन आयोग अजय भादू, वरिष्ठ प्रधान सचिव भारत निर्वाचन आयोग एन.एन. बुटोलिया, भारत निर्वाचन आयोग के डायरेक्टर जनरल मीडिया बी. नारायणनन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश अनुपम राजन, डायरेक्टर स्वीप संतोष अजमेरा, सचिव भारत निर्वाचन आयोग अमित कुमार, अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजेश कुमार कौल, संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राकेश सिंह एवं बसंत कुर्रे सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक के साथ 5 जुलाई को होगी बैठक

मध्यप्रदेश विधानसभा निर्वाचन-2023 की तैयारी को लेकर भारत निर्वाचन आयोग के प्रतिनिधि-मंडल द्वारा 3 एवं 4 जुलाई को सभी 52 जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी और पुलिस अधीक्षकों के साथ समीक्षा बैठक के बाद 5 जुलाई को मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक विभाग प्रमुखों एवं एनफोर्समेंट एजेंसियों के नोडल अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button