बिलासपुर । हिर्री थानांतर्गत ग्राम मोहदा स्थित मनियारी नदी में शुक्रवार व्यक्ति की लाश शुक्रवार रात से नदी में तैरती रही। शनिवार सुबह लाश एनीकट के नीचे बने भंवर में जा फंसी। तेज बहाव के बीच दिनभर एसडीआरएफ और पुलिस कर्मी लाश निकालने दिन भर मशक्त करते रहे, लेकिन देर रात तक लाश बाहर नहीं निकाली जा सकी। हिर्री थाना प्रभारी मान सिंह राठिया के अनुसार शुक्रवार देर शाम थाने में ग्राम मोहदा के लोगों ने सूचना दी कि गांव में बने एनीकट के नीचे एक युवक की लाश बह रही है। सूचना पर पुलिस कर्मी मौेके पर पहुंचे, नदी में पानी का बहाव एनीकट के ऊपर से होने के कारण पुलिस कर्मी वापस आ गए थे। शनिवार सुबह पुलिस कर्मियों ने सूना एसडीआरएफ की टीम को दी। एसडीआरएफ की टीम बोट लेकर ग्राम मोहदा पहुंची। सुबह से दोपहर ३ बजे तक  टीम नदी में बोट चलाकर लाश के पास पहुंचने का प्रयास करते रहे, लेकिन तेज बहाव होने के कारण टीम लाश तक नहीं पहुंच पाई। 
बोट पलटने से बची, लौटी टीम 
लाश तक पहुंचने के लिए टीम बोट का सहारा ले रही है। तेह बहाव  के बीच विपरीत दिशा में बोट चलाकर टीम ने लाश तक पहुंचने का कई बार प्रयास किया, लेकिन तेज बहाव में बोट कई बार पलटते बची। खुद की सुरक्षा के लाले पडऩे और बोट पलटने पर बचाने वाला कोई नहीं होने के कारण टीम बोट लेकर वापस आ गई। 
१५ किलो मीटर दूर एनीकट में पानी रोकने का प्रयास
मोहदा एनीकट के उपर से बह रहे पानी को कम करने के लिए एसडीआरएफ की टीम ने मोहदा एनीकट से १५ किलो मीटर दूर दूसरे एनीकट में पानी रोकने का प्रयास किया। यहां भी एनीकट के ऊपर से पानी का बहाव तेज होने के कारण टीम को वापस लौटना पड़ा। 
भंवर में घूमती कभी ऊपर और कभी नीचे जा रही थी लाश
एनीकट के नीचे पानी के तेज बहाव के कारण पानी का भंवर बनता रहा। लाश भंवर में फंसकर गोल-गोल घूमने के बाद कई बार डूबती रही। कुछ देर के बाद लश फिर से पानी के उपर आकर तैरती रही। 
रस्सी के सहारे लाश तक पहुंचने का किया प्रयास 
पुलिस और एसडीआरएफ की टीम ने एनीकट के एक छोर से दूसरे छोर पर रस्सी बांधकर लाश तक पहुंचने का प्रयास किया। एनीकट के दोनों छोर पर ट्रैक्टर खड़ा कर रस्सी बांधी गई, लेकिन रस्सी के सहारे भी टीम लाश तक नहीं पहुंच पाई।